RAM क्या है? (RAM Kya Hai) और Types of RAM - What is RAM in Hindi?

दोस्तों, आप जब भी नया कंप्यूटर या फ़ोन लेते हो तो दुकानदार आपसे यह जरूर पूछते है। की आपको कितने RAM वाला Device लेना है। यहाँ जो "RAM" शब्द का प्रयोग किया गया है। क्या आप जानते है की RAM Kya Hai?

अगर आप नहीं जानते की What is RAM in Hindi? तो आज हम आपको RAM के बारे में बातएंगे की RAM क्या है ? और साथ ही RAM से जुड़ी अन्य जानकारी भी आपको प्रदान करेंगे। जैसे RAM कैसे काम करती है?, Types of RAM, RAM की आवशकता, RAM की विशेषताएँ इत्यादि।

RAM क्या है? (RAM Kya Hai) और Types of RAM - What is RAM in Hindi | ComputerHindiMe.In, Ram kya hai , what is ram in hindi , types of ram, ram k prakar

Computer में Data व Information को Store करने के लिये मेमोरी का प्रयोग किया जाता है। इस Data को मेमोरी में Store करने के लिये कंप्यूटर का प्रयोग किया जाता है। कंप्यूटर में दो प्रकार की मेमोरी होती है। जिन्हे हम Primary और Secondary Memory के नाम से जानते है।

RAM एक मेमोरी होती है। और ये कंप्यूटर के Primary Memory का एक हिस्सा है। RAM कंप्यूटर की बहुत Fast मेमोरी होती है। इस वजह से ये मेमोरी कंप्यूटर C.P.U से Direct Data Communicate कर सकता है।

तो चलिए जानते है। की RAM Kya Hai और RAM के प्रकार

RAM का Full Form

Electronic Devices में लगे RAM का फुल फॉर्म Random Access Memory होता है। ये कंप्यूटर की बहुत Fast मेमोरी होती है। जो Data को बहुत तेज गति से Transfer कर सकती है बहुत Fast Data Transfer गति होने के कारण इस मेमोरी को कंप्यूटर C.P.U से Direct जोडा जाता है।

RAM को Main Memory और Direct Access Memory के नाम से भी जाना जाता है। क्योकि इसे कंप्यूटर CPU के द्वारा Directly Access किया जा सकता है।

RAM क्या है? (RAM Kya Hai)

RAM का पूरा नाम Random Access Memory हैं। इसकी फुल फॉर्म से आपको कुछ ज्यादा पता नहीं चला होगा। RAM कंप्यूटर की वह मेमोरी है। जो C.P.U के अंदर वर्तमान समय में हो रहे कार्य के Data को Store करके रखता है।

जब भी आप अपने कंप्यूटर में किसी Program या Application  को चलाते है। तो कुछ समय के लिये Program से सम्बंदित Data ROM से उठकर RAM की मेमोरी में Store हो जाता है। और इस स्टोर Data को RAM बहुत तेजी से प्रोसेसर को भेजता है। जिस कारण हमारा Program Run हो पाता है।

कंप्यूटर में जब आप उस प्रोग्राम को बंद कर देते है। तो उस समय प्रोग्राम से सम्बंदित वह डाटा RAM से डिलीट हो जाता है। और वापस ROM की मेमोरी में Store हो जाता है। जब भी आप किसी प्रोग्राम को चलते है तो ये Process दुबारा जारी हो जाती है।

RAM कंप्यूटर की Volatile मेमोरी होती है। इस वजह से इसमें स्टोर Data Temporary होता है। जो Program या कंप्यूटर बन्द होने  Delete हो जाता है। RAM में Data को स्टोर करने के लिये एक बहुत बड़ी संख्या में Transistor व Capacitor का प्रयोग किया जाता है।

ROM मेमोरी कंप्यूटर के CPU से जुड़ी होती है। जिसे ये अपना डाटा CPU को ट्रांसफर कर सकता है। इसमें Store किया हुआ डाटा को Read और Write किया जा सकता है। इस मेमोरी में एक साथ अनेक प्रोग्राम के डाटा को Store किया जा सकता है।

परन्तु कंप्यूटर में RAM मेमोरी एक छोटी मात्रा में होती है। और अधिक प्रोग्राम व एप्लीकेशन चलाने पर ये Slow हो जाती है। जिसे कंप्यूटर के कार्य गति भी धीमी हो जाती है।

RAM की विशेषताएँ – Characteristics of RAM in Hindi

तो चले जाने है। कंप्यूटर की RAM मेमोरी के बारे में विशेष बाते

  • RAM की मेमोरी में कंप्यूटर के सभी Program, Software, File चलते है।
  • RAM की Data Transfer Speed ROM मेमोरी से बहुत अधिक होती है।
  • ये कंप्यूटर की एक Volatile मेमोरी होते है।
  • RAM में Store Data Temporary होता है। जो प्रोग्राम व सिस्टम बन्द होने पर Delete हो जाता है।
  • ये मेमोरी कंप्यूटर CPU से Direct Link होती है।
  • इस मेमोरी में ही कंप्यूटर के सभी कार्य होते है।

RAM के प्रकार (Types of RAM)

कंप्यूटर टेक्नोलॉजी ने आज के समय में बहुत विकास कर लिए है। और कंप्यूटर को अधिक गति से कार्य करने के लिए आज RAM का प्रयोग होता है। समय के साथ साथ कंप्यूटर RAM में भी विकास हुआ है। और आज ये RAM हमे अलग प्रकार में मिल जाते है।

RAM क्या है? (RAM Kya Hai) और Types of RAM - What is RAM in Hindi?

कंप्यूटर RAM के कुल दो प्रकार होते है। जिन्हे हम SRAM और DRAM के नाम से जानते है। इन दोनों प्रकार के RAM पर हम आगे चर्चा करेंगे।

SRAM (Static Random Access Memory)

SRAM का पूरा नाम Static Random Access Memory होता हैं। जिसमे "Static" शब्द बताता है की इस RAM में डाटा स्थिर रहता है। यह मेमोरी बहुत ही तेज़ होती है। इससे CACHE  मेमोरी भी बोलते है। इस RAM के Data में जायदा Movement नहीं होती है। इस वजह से SRAM के डाटा को बार Refresh नहीं करना पड़ता है।

SRAM के फायदे 

  1. SRAM को बार बार रिफ्रेश करने की जरूरत नहीं होती।
  2. यह DRAM से जायदा Speed में काम करती है।
  3. यह Medium Power का इस्तेमाल करती है।

SRAM के हानिया

  1. यह DRAM की तुलना में बहुत महंगी होती है।
  2. इसकी Storage करने की Capacity कम होती है।
  3. यह Volatile Nature की होती है। जिसके की Power OFF जाने के बाद Data डिलीट हो जाता है।

DRAM (Dynamic Random Access Memory)

DRAM का पूरा नाम Dynamic Random Access Memory होता हैं। जिसमे "Dynamic" शब्द यह बताता है। की इस में डाटा की Movement होती है और यह SRAM के मुक़ाबले में यह स्लो होती है। इसमें Data स्टोर रखने के लिए इसे बार बार Refresh करने की जरूरत पड़ती है।

इस मेमोरी के बहुत से प्रकार देखे जा सख्ते है।  RAM DDR3, DDR2  Etc. ये सभी DRAM के प्रकार है। यह जनरेशन के हिसाब से आते है। जिसमे Capacitor और Transistor की संख्या और उनमे किये गए बदलाव के हिसाब से नयी नयी जनरेशन आती है।

DRAM के फायदे 

  1. यह SRAM की तुलना में सस्ती होती है।
  2. इसकी Storage की Capacity जयादा होती है।
  3. इसका Size SRAM की तुलना में जयादा होता है।

DRAM की हानिया 

  1. इसमें Data बार बार Refresh करना पड़ता है।
  2. यह जायदा Power का इस्तेमाल करता है।
  3. यह Volatile Nature की होती है।

SRAM और DRAM में अंतर

तो चलिए जानते है की SRAM और DRAM में क्या अंतर है।
  • SRAM एक ON Chip मेमोरी होती है। जिसका प्रोसेसिंग टाइम बहुत छोटा होता है। जबकि DRAM OFF Chip मेमोरी होती है। जिसका प्रोसेसिंग टाइम लम्बा होता है।
  • DRAM का स्टोरेज बहुत बड़ा होता है। जबकि SRAM  का छोटा होता है।
  • SRAM  बहुत ही मंहगा होता है। और DRAM बहुत ही सस्ता होता है। 
  • SRAM में ज्यादा संख्या में ट्रान्सइटर का उपयोग होता है। जबकि DRAM में इनका प्रयोग कम होते है।

RAM कैसे काम करती है?

कंप्यूटर की सभी मेमोरी में RAM सबसे महत्वपूर्ण मेमोरी होती है। कंप्यूटर में बिना RAM के कंप्यूटर सिस्टम को चलाया नहीं जा सकता है। क्योकि कंप्यूटर के सभी Software, Application और Operating System को RAM की सहायता से चलाया जाता है।

RAM कंप्यूटर की सबसे तेज मेमोरी है और ये Volatile Nature की होती है जिसमे डाटा अस्थिर होता है। कंप्यूटर में सभी डाटा ROM मेमोरी में Store होता है। तो चलिए जानते है। की RAM कैसे कार्य करती है?

जब भी कंप्यूटर सिस्टम को User द्वारा किसी भी Application और Software को चलने का Input प्रदान होता है। यह इनपुट कंप्यूटर प्रोसेसर को जाता है। और प्रोसेसर User इनपुट से सम्बंदित सभी Data की मांग RAM से करता है। क्योकि वह एक फ़ास्ट मेमोरी है। जो डाटा जल्दी ट्रांसफर कर सकता है।

RAM प्रोसेसर द्वारा मागे गये Data को ROM मेमोरी से उठाकर अपनी मेमोरी पर लता है। और डाटा को प्रोसेसर तक एक तेज गति से भेजता है। जिस कारण Application का डाटा Process होता है। और कंप्यूटर User के इनपुट अनुसार एप्लीकेशन चलता है।

कंप्यूटर में जब User द्वारा Application बन्द किया जाता है। उस समय RAM Application से सम्बंदित सभी Data Files को वापस ROM मेमोरी में भेज देता है। इस प्रकार RAM कंप्यूटर में कार्य करता है। और कंप्यूटर  की कार्य गति को बढ़ाता है।

RAM के फायदे

  1. RAM के प्रयोग से कंप्यूटर सिस्टम की Speed ज्यादा तेज हो जाती है।
  2. कंप्यूटर में अधिक सख्या में RAM होने पर कंप्यूटर की कार्य गति नहीं अधिक हो जाती है।
  3. RAM में स्टोर Data को Read और Write किया जा सकता है।
  4. इसमें कोई भी Moving Parts नहीं होता है।
  5. कंप्यूटर में RAM की संख्या को बढ़ाया व घाटया जा सकता है।

RAM के हानिया 

  1. RAM की Cost बहुत ही जायदा होती है।
  2. यह Volatile nature की होती है। जिसमे Data Temporary स्टोर होता है।

आज आपने क्या सीखा 

आज आपने इस आर्टिकल से यह सीखा की RAM क्या है, (RAM Kya Hai) RAM कैसे काम करती है? अब जब भी अपने लिए नया कंप्यूटर या लैपटॉप लेने जायेंगे तो आप अपनी जरूरत के हिसाब से पता कर सकते है।

इस आर्टिकल में आपने यह भी जाना की RAM के फायदे और हनिया  और यह किस प्रकार काम करती है, Types of RAM

अगर आप कंप्यूटर से सम्बंदित ज्ञान पाने में रुचि रखते है। तो आप हमारे साइट के अन्य आर्टिकल पढ़ सकते है। इस साइट पर हम कंप्यूटर से जुड़ी जानकारिया प्रदान करते है।

Post a Comment

0 Comments