UPS क्या है? (What is UPS in Hindi?) Types of UPS, Invertor और UPS में अंतर क्या क्या है?

अगर आप एक कंप्यूटर उपयोगकर्ता है। तो कंप्यूटर प्रयोग करते समय अपने UPS का प्रयोग जरूर किया होगा। ये कंप्यूटर System से जुड़ा रहता है और हम में से सभी कंप्यूटर उपयोगकर्ता "UPS" शब्द से परिचित होंगे पर क्या कभी आपने सोचा है। कि कंप्यूटर System मे प्रयोग होना वाला ये UPS क्या है? (What is UPS in Hindi ?), UPS कितने प्रकार के होते है? और UPS के मुख्य कार्य क्या है?

अगर आप नहीं जानते कि UPS क्या है और इसका प्रयोग क्यों किया जाता है। तो बिना समय गवाए हमारे इस आर्टिकल को पूरा पढ़े। क्योकि इस आर्टिकल मे हमने UPS से समन्धित सभी जानकारिया प्रदान की है। जैसे- UPS की विशेषताएं, UPS के कार्य और UPS के फायदे व नुकशान क्या क्या है?

जब भी हम कोई कंप्यूटर खरीदते है। तो उस समय हम एक अच्छा UPS जरूर खरीदते है। जिसे हमारे कंप्यूटर को बहुत लाभ होता है और ये कंप्यूटर को Electricity से होने वाली सभी Problem से भी बचाता है। जिन पर हम आगे विस्तार मे चर्चा करेंगे।

UPS क्या है? What is ups in hindi? , types of ups, uses of ups, ups ki full form, UPS क्या है? (What is UPS in Hindi?) Types of UPS, Invertor और UPS में अंतर क्या क्या है?

तो चलिए जानते है कि UPS क्या है? और UPS के प्रकार के बारे मे,

UPS क्या है? (What is UPS in Hindi?)

UPS को Uninterruptible Power Supply के नाम से जाना जाता है। ये कंप्यूटर के Power Supply से जुड़ा होता है। UPS एक Hardware Device होता है। जिसके अंदर बहुत सारे Electronic Component लगे हुए होते है और UPS मे Electric Power को Store करने के लिए Battery का प्रयोग किया जाता है। कंप्यूटर मे UPS का प्रयोग उस समय किया जाता है जब कंप्यूटर की Main Power Supply बंद हो जाती है। 

Main Power Supply के बंद होने के बाद UPS अपनी Battery मे Store Power की सहायता से कंप्यूटर System को निस्चित समय के लिए चालू रखता है। और इस छोटे से समय मे हमे अपने Data को Save व Store कर सकते है और सरलता से अपने कंप्यूटर System को Proper Shutdown या बंद कर पाते है। 

UPS के ना होने पर कंप्यूटर मे अचानक Power Off होने से कंप्यूटर Window और File Corrupt हो जाती है। जिस वजह से Data loss होता है। अचानक Power Off के कारण Computer Hardware Device जैसे Hard Disk पर एक बुरा Impact पड़ता है। जिस वजह से वे ख़राब हो सकते है। Main Power Off से बचने के लिए हम कंप्यूटर में UPS का प्रयोग करते है।

UPS मे लगाई गई बैटरी से कंप्यूटर System को लगभग 15 से 20 मिनट का Power Backup दिया जाता है। Main Power Supply के दुबारा ON होने पर UPS की बैटरी को फिर से Recharge कर दिया जाता है। 

कंप्यूटर UPS हमारे Main Power Supply मे आ रहे Electrical Problem को भी Solve कर देता है। जैसे- Voltage fluctuation, Noise, Transient impulses, इत्यादि।

UPS एक Temporary Power Supply के रूप मे कार्य करता है। जो कंप्यूटर System मे Main Power Source के Presence और Absence के अनुसार कंप्यूटर को Power Backup प्रदान करता है। UPS का प्रयोग हम Desktop Computer, PC Server इत्यदि मे करते है। 

UPS का फुल फॉर्म क्या है?

UPS का फुल फॉर्म Uninterruptible Power Supply होता है। जिसका अर्थ है "निरन्तर बिजली का संचालन  करना" अपने नाम की तरह हि ये Device कंप्यूटर को निरंतर या लगातार Power Supply करता रहता है। और इस निरंतर Supply के कारण Main Power Off होने पर भी हमारा कंप्यूटर System बंद नहीं होता है।

UPS - Uninterruptible Power Supply 
हिंदी अर्थ - निबधि विद्दुत अपूर्ति 


UPS की विशेषताएँ (Characteristics of UPS in Hindi?)

  1. कंप्यूटर की Main Power Supply बंद होने पर UPS Backup Power प्रदान करता है। जिसे कंप्यूटर अचानक बंद नहीं होता।
  2. UPS हमारे Main Power Source मे हो रहे Electric Problems जैसे Voltage fluctuations, Transient impulses, Noise, Voltage surges को हल कर देता है।
  3. UPS मे लगाई गयी Battery Computer system को 15 से 20 min तक चला सकती है।
  4. UPS हमारे कंप्यूटर को अचानक OFF होने से बचाता है। जिस वजह से Window or File corrupt होने से बच जाते है।
  5. UPS Computer को Low Voltage Problems से भी बचता है।

UPS के मुख्य भाग व उनके कार्य

UPS एक Hardware Device होता है। जो System मे Electricity Maintain करता है और इस Device मे बहुत से Electronic Component लगाए होते है। जिनकी वजह से यह कार्य कर पाता है तो चलिए जानते है। UPS के मुख्य भाग व उनके कार्य क्या क्या है?

UPS के तीन मुख्य भाग है।

  1. Rectifier 
  2. Battery 
  3. Inverter 

Rectifier 

ये UPS का सबसे पहले आने वाला मुख्य Part है। Rectifier हमारे Main Circuit से आने वाली AC voltage Supply को DC Voltage मे Convert करता है और Voltage Value को कम करके बैटरी तक भेजता है।

Rectifier के द्वारा Converted DC Voltage से Discharge Battery को Charge किया जाता है। ये Battery में Float Voltage बनाये रखता है और ये Overload and Voltage Value को Control मे रखता है।

Battery 

Battery पुरे UPS का सबसे मुख्य भाग होता है। बैटरी के बिना UPS कार्य नहीं कर सकता। Battery एक Electrochemical Cell होता है। जिसमे Rectifier से आ रहे DC Voltage को Store किया जाता है और इस Store Power को UPS backup power के रूप मे रखता है। जिसे बाद मे Computer द्वारा Power Cut होने पर प्रयोग किया जाता है।

Inverter 

Inverter UPS मे प्रयोग किया जाता है। इस भाग का कार्य Rectifier के कार्य से बिलकुल उल्टा होता है। Inverter Battery से DC Voltage को Low voltage पर प्राप्त करता है और फिर उसे AC High Voltage मे Convert करके Computer System को प्रदान कर देता है।

UPS के प्रकार (Types of UPS )

UPS के प्रकार के बारे मे हम मे अनेक लोगों के Doubt रहते है और इसके प्रकार के बारे मे भी अधिक जानकारी नहीं होती है। अब हम जान गए है कि UPS क्या है? तो चलिए आपके ज्ञान को और बढ़ाते है और जानते है कि UPS के कितने प्रकार है और उन पर विस्तार मे चर्चा करते है।

UPS के तीन प्रकार होते है।

  1. Standby/Offline UPS
  2. Line interactive UPS
  3. Double conversion/Online UPS

Standby UPS/Offline UPS

Standby UPS को Offline UPS भी कहा जाता है। इस प्रकार के UPS हमे बहुत संधारण Function प्रदान करते है। इन UPS का प्रयोग Personal Computer मे अधिक किया जाता है।

ये UPS Incoming Power से Direct Connect रहता है और कंप्यूटर को Battery Backup प्रदान करता है। इस UPS मे AC to DC और DC to AC Converter होता है। जो System को Pure AC Power Supply करता है।

Standby UPS मे जब Incoming Power or voltage निर्धारित सीमा (Predetermined level) से निचे या ऊपर चला जाता है। उस समय ये UPS Computer को Direct UPS Battery से Power Supply करता है। और Incoming Supply के Normal होने पर ये दुबारा Normal Connection बना लेता है।

Line-Interactive UPS 

Line-Interactive UPS का Working Design Standby UPS के समान होता है। ये online और offline दोनों UPS के कार्य कर पाता है। इस वजह से इसे Hybrid UPS भी कहा जाता है। इस UPS का प्रयोग बिजनेस, Web Server मे किया जाता है।

इस प्रकार के UPS में AVR(Automatic Voltage Regulation) का प्रयोग किया जाता है। इसके प्रयोग से Incoming Power Supply मे उपस्थित Voltage Fluctuation की समस्या को Solve कर Stabilized Voltage Output के रूप मे कंप्यूटर को प्रदान किया जाता है। ये सभी कार्य इस UPS द्वारा कुछ Millisecond मे पूरा कर दिया जाता है।

Double conversion/Online UPS 

Double conversion UPS को Online UPS भी कहा जाता है। इस प्रकार के UPS का प्रयोग बड़े Power Capacity Computer मे किया जाता है। इस प्रकार के UPS की बैटरी शमता बहुत अधिक होती है। इस UPS का Action Time बहुत कम होता है और ये High Capacity Load को भी संभाल लेता है।

UPS और Inverter मे अंतर

तो चलिए विस्तार मे समझते है। कि UPS और Inverter मे क्या क्या अंतर है?

  1. UPS केवल कंप्यूटर और उसके Part को Electricity प्रदान करता है। वही Inverter द्वारा हमारे पुरे घर के सभी Electronic Device को Electricity प्रदान करी जाती है।
  2. UPS की बैटरी को Full Charge करने पर वह केवल 15 से 20 मिनट चल पाती है। वही Inverter की बैटरी 7 -8 घंटे तक कार्य करती है।
  3. UPS का Power Cut Restore Time बहुत काम होता है। वही Inverter का Restore Time बहुत ज़्यदा होता है।
  4. UPS का कुल मूल्य लगभग 2500 से 3500 रूपये होता है। वही Inverter का कुल मूल्य लगभग 16000 से 20000 तक होता है।
  5. Inverter की Battery Capacity UPS की Battery की तुलना मे बहुत ज़्यदा होती है।
  6. UPS की Battery 4 से 5 साल तक चलती है। वही Inverter की Battery लगभग 2 से 3 साल तक चलती है और इसे समय समय पर Distilled Water को भरना पड़ता है।

UPS के फायदे (Advantages of UPS)

  1. UPS कंप्यूटर मे Power Supply के अचानक Cut को Maintane करता है।
  2. UPS कंप्यूटर को Proper Shutdown करने और Data Loss से बचाता है।
  3. UPS की Battery life time लगभग 4 से 5 साल तक होती है।
  4. UPS Main supply मे उप्लब्ध Electricity problems like - Voltage Fluctuations and Noise को नियंतित्र करता है।
  5. UPS कंप्यूटर और उसके Part की Life को बढ़ाता है और Safe रखता है।
  6. UPS Computer System मे लगातार व निरंतर Electricity को Flow करता रहता है।

UPS के नुकशान (Disadvantages of UPS)

  1. UPS की Battery कंप्यूटर को लगभग 15 से 20 मिनट तक चला पाती है। जो बहुत काम समय है।
  2. UPS की बैटरी खराब हो जाने पर उसमे नयी बैटरी को Install करना पड़ता है।
  3. Simple UPS Heavy Capacity Load को नहीं चला सकता है।

भारत में मुख्य यूपीएस निर्माण कंपनी

Luminous 
Su-kam 
Microtek 
Intex 
Genus power 

आज आपने क्या सीखा 

इस आर्टिकल मे आपने जाना की कंप्यूटर UPS क्या है? (What is UPS in Hindi?) UPS के प्रकार और इसे जुडी अनेक जानकारिया आपने इस आर्टिकल मे पढ़ा होगा।

हम आशा करते है कि UPS से समन्धित हमारे ये आर्टिकल आपको अच्छा लगा होगा और इस पढ़ने के बाद आपको UPS के बारे मे एक अच्छा ज्ञान प्राप्त हुआ होगा। अगर आपको ये आर्टिकल अच्छा लगा तो इसे अपने परिवार और दोस्तों को जरूर SHARE करे।

Post a Comment

0 Comments