Email Address क्या है?, Email Ka Pura Naam, Email Ka Avishkar Kisne Kiya और ईमेल की पूरी जानकारी हिंदी

दोस्तों आज इस आर्टिकल मे हम ईमेल एड्रेस के बारे मे जानेंगे कि Email क्या है? (Email Kya Hai), ईमेल एड्रेस क्या होता है?, Email Ka Pura Naam Kya Hai, Email के फायदे व नुकशान क्या है? Email Ka Matlab Kya Hota Hai और Email Ka Avishkaar Kisne Kiya इत्यादि जैसी अनेक जानकारिया आप इस आर्टिकल मे जानोंगे।

आज के समय मे प्रत्येक व्यक्ति "ई-मेल" शब्द से परिचित है और अधिकतर लोग इस ई-मेल सुविधा का प्रयोग भी करते है। अगर आप इस बारे में नहीं जानते तो कोई बात नहीं आज इस आर्टिकल को पढ़कर आप इसको जरूर जान जायेंग कि यह Email Kya Hai व इस E-mail का क्या प्रयोग होता है?

इस आर्टिकल के माध्यम से हम आपकी Email के बारे में जानकारी प्रदान करेंगे और बतयेंगे कि यह E-mail क्या है? Email Ka Pura Naam और Email Ka Avishkaar Kisne Kiya

ईमेल एक प्रकार का पत्र होता है। परन्तु ये किसी सामन्य पोस्ट पत्र से अलग होता है। आज से बहुत समय पहले दुनिया मे संचार के माध्यम बहुत कम हुआ करते थे। परन्तु टेक्नोलॉजी के विकास के साथ साथ संचार के माध्यम मे भी विकास होता चला गया। जिसे संचार की सुविधाएं मे सुधर हुआ और ईमेल भी एक संचार का माध्यम होता है।

email id kaise banaye , email ka matlab kya hota hai ,email id ka password kaise pata kare ,email ka password kaise change kare ,email ka avishkar kisne kiya ,email address kya hota hai ,email id kaise banate hain ,email kya hota hai ,email ka matlab kya hota hai mera ,email id kya hai ,new email id kaise banaye  ,email ka pura naam ,email ka janmdata kaun hai ,email ka password kaise pata kare ,email id ka password bhul gaye to kya kare ,email id ka password kaise change kare, gmail address kya hota hai mera, email address kya hai mobile se ,email id kaise banaye, email id meaning in hindi mera ,email kya hai ,email id banani hai ,email id ka matlab kya hota hai ,valid email address meaning in hindi, email address ka matlab kya hota hai, email id banane ke liye, mobile me email id kaise banaye, apna email address kaise pata kare, email address in hindi meaning, email ka hindi, official email id kaise banaye, email id kaise pata kare, apna email id kaise pata kare, play store email id kaise banaye, google email id kaise banaye, nai email id kaise banaen, apni email id kaise banaen, new email kaise banaye, email id banane wala, naya email id kaise banaye, email in hindi meaning, email id banane ka, email id kaise banaye in hindi, email id kaise banana hai, google mera email id kya hai, email number kya hota hai, email ka hindi meaning, valid email meaning in hindi, apna email id kaise banaye,  email id se phone number kaise pata kare, email address kaise banaya jata hai, apni email id kaise check karen, phone me email id kaise banaye, mera email number kya hai, mera email id ka password kya hai, google email id kaise banate hain, email id kaise check karte hain, kisi ki email id kaise pata kare, mera email id password kya hai, email id kaise banaye hindi mai, invalid email address meaning in hindi, phone number se email id kaise pata kare, recovery email address kya hota hai, email address ka matlab hindi mein, apna google account password kaise dekhe, apne google account ka password kaise dekhe, valid email address ka matlab kya hota hai, email address kaise banaye, email address meaning in hindi, email address kaise pata kare, email address kya hota hai, mera email address kya hai, gmail address kya hota hai, email address kya hota hai example, what is email address in hindi with example, email address kya hai mera, e mail id kya hai, e mail id kya hoti hai, email address क्या है, email k bare me, email i d kaise banaye, email i d kaise banate hai, email k bare me, email ka pura naam, email ka password kaise pata kare, email ka password kaise change kare, email ka password, email ka password kaise dekhe, email ka password change karna, email ka pura naam hai, email ka pura naam batao, email k janak, email ka matlab, email ka avishkar kisne kiya, email ka pura naam, email ka full form, email ka janmdata kaun hai, email ka hindi meaning, email ka password kaise dekhe

तो चलिए जान लेते है कि E-mail Address Kya Hai?, E-mail Ka Pura Naam Kya Hai? और ईमेल का अविष्कार किसने किया?

E-mail ka Pura Naam in Hindi (E-mail Ka Full Form)

ईमेल एक प्रकार का Virtual पत्र होता है। जिसे आज संचार का एक अच्छा माध्यम कहा जाता है। E-mail का पूरा नाम "Electrical Mail" होता है।

ईमेल के पूरे नाम का हिंदी अर्थ 'विधुतीय मेल' होता है। जिस प्रकार इसके नाम से पता चलता है की यह किसी सामन्य मेल से अलग होता है और यह एक प्रकार का इलेक्ट्रिकल पत्र होता है। अब तक आप जान चुके होंगे की Email Ka Pura Naam Kya Hai

E-mail क्या है? (E-mail Kya Hai) 

ईमेल एक प्रकार का पत्र होता है। जिसे वास्तविक मेल कहा जाता है। ईमेल के नाम का पूरा अर्थ "विधुयत पत्र" होता है। इस पत्र के द्वारा कम समय व सरलता से किसी इलेक्ट्रिकल पत्र को दूसरे व्यक्ति तक भेजा जा सकता है। और इस कार्य को करने के लिए इलेक्ट्रॉनिक डिवाइस का प्रयोग किया जाता है। जैसे - मोबाइल, कंप्यूटर, लैपटॉप इत्यादि।

अगर सरल भाषा मे कहा जाए तो ईमेल एक प्रक्रिया होती है। जिसमे एक वास्तविक पत्र या संदेश को किसी एक इलेक्ट्रॉनिक डिवाइस से दूसरे इलेक्ट्रॉनिक डिवाइस मे भेजा जाता है। यह पत्र बहुत कम समय मे दूसरे डिवाइस यूजर तक पहुंच जाता है।

यह प्रक्रिया कुछ उसी प्रकार है। जैसे आज से कुछ समय पहले लोग डाक पत्र का प्रयोग करते थे। उस समय लोग कागज पर संदेश लिखकर उसे पोस्ट बॉक्स में डाल देता थे। कुछ समय बाद डाकिया इस संदेश पत्र को लेजाकर पत्र पर लिखे पते पर पोस्ट कर देता था। 

यह प्रक्रिया आज के ईमेल पत्र की प्रक्रिया से बहुत ज्यादा धीमी थी। इस प्रक्रिया मे हफ्तों से लेकर महीनो का भी समय लग जाता था।

आज ईमेल की सहायता से यह कार्य बहुत सरल व आसान हो चूका है और टेक्नोलॉजी के विकास के साथ साथ ईमेल की इस पत्र प्रक्रिया मे भी विकास होते जा रहे है। ईमेल की सबसे अच्छी बात यह है कि यह डाक पत्र की तरह बहुत समय नहीं लेती।

 ईमेल द्वारा भेजा गया पत्र कुछ सेकेंड में एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति के डिवाइस पर पंहुचा जाता है। और इस इ-मेल को भेजने के लिए किसी इलेक्ट्रॉनिक डिवाइस का प्रयोग किया जाता है।

E-mail Address क्या है? (E-mail Address Kya Hai)

"E-mail Address" शब्द से आपको यह पता चल गया होगा कि इसमें किसी प्रकार के Address की बात की गयी है। यह E-mail Address एक प्रकार का पता होता है। जिस प्रकार डाक पत्र के ऊपर पत्र को लेने वाले व्यक्ति का पता लिखा होता है। इस पते के माध्यम से ही डाक पत्र को निस्चित पते पर पंहुचा दिया जाता है।

सरल शब्दों मे कहा जाए तो ईमेल एड्रेस एक पता होता है। जिसके द्वारा पत्र लिखने वाला व्यक्ति यानी Recevier पत्र को प्राप्त करने वाले व्यक्ति का पता लिखता है। जिसे ईमेल कि निस्चित व्यक्ति के पते पर बहुत सरलता से पहुंच जाता है।

इंटरनेट पर प्रत्येक ईमेल उपयोगकर्ता का एक अलग पता या Address होता है। जिसके माध्यम से वह उपयोगकर्ता किसी पत्र को भेज व प्राप्त कर पाता है। यही ठीक उसी प्रकार है जैसे हर व्यक्ति का अपना नाम-पता होता है। इंटरनेट पर बिना किसी ई-मेल के पत्र व सन्देश का संचार नहीं किया जा सकता है।

जब भी कोई व्यक्ति अपना इमेल अकाउंट बनता है। उस समय ही उपयोगकर्ता का ईमेल एड्रेस बन जाता है। किसी ईमेल एड्रेस की बनावट का Format इस प्रकार का होता है। जैसे - Name123@gmail.com

इस ईमेल एड्रेस मे सबसे पहले Username उपस्थित होता है। जैसे Name123 इत्यादि। ये Username किसी ईमेल एड्रेस को अलग पहचान प्रदान करता है। उपयोगकर्ता को यह पहचान सबसे अलग चुना जाता है। इसके बाद ईमेल एड्रेस मे @ का प्रयोग होता है और अंत मे gmail.com नाम मेल प्रदर्ता कि Domain दर्शाता है।

आज इंटरनेट पर अनेको ईमेल एड्रेस प्रदाता उपस्थित है। जैसे- Google द्वारा "gmail.com" ईमेल एड्रेस दिया जाता है और Microsoft द्वारा "hotmail.com" नमक ईमेल एड्रेस दिया जाता है। ऐसे अनेको ईमेल प्रदाता आपको इंटरनेट पर मिल जायेंगे। अब आप जाने चुके होंगे की Email Kya Hai और Email Address Kya Hota Hai

टेक्नोलॉजी से सम्बंधित अन्य लेख जरूर पढ़े -


ई-मेल की मुख्य विशेषता 

  • ई-मेल प्रक्रिया से संचार बहुत सरल व आसान होती है।
  • ई-मेल द्वारा बहुत काम समय मे एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति तक सन्देश पत्र भेजा जा सकता है।
  • इसकी सहायता से एक सन्देश को अनेक ईमेल एड्रेस पर भेजा जा सकता है।
  • ई-मेल द्वारा भेजा गया संदेश दिखने में साफ़ व सुन्दर होता है।
  • इस पत्र प्रक्रिया द्वारा अनेक पेज के पत्र, फोटो, ऑडियो, वीडियो या अन्य डाटा को भी भेजा जा सकता है।

ई-मेल का अविष्कार किसने किया (Email Ka Avishkar Kisne Kiya)

E-mail का आविष्कार सन 1971 मे Ray Tomlinson द्वारा किया गया। यह एक Electrical Mail System था। जिसमे किसी Network की सहायता से एक कंप्यूटर से दूसरे कंप्यूटर के बीच संदेश का संचार किया जा सकता था। यह प्रक्रिया बहुत सरल व तेज़ थी। इस कारण इसका विस्तार बहुत तेज़ी से हुआ।

कुछ समय बाद इंटरनेट पर Protocol नियमो के आगमन के कारण मेल को भेजने मे कठनाई आयी जिसमे Sender द्वारा मेल को किसी पते पर भेजने मे कठनाई आने लगी और इस समस्या का समाधान Ray Tomlinson द्वारा किया गया।

इस समस्या के हल के लिए Tom ने @ Symbol का निर्माण किया। जो इंटरनेट कि दुनिया मे आज अपना योगदान दे रहा है। इस Symbol की सहायता से मेल संदेश के Destination पते को दर्शाया जाता है।

इसका प्रयोग आज के E-mail address में किया जाता है जो इस प्रकार है- "User@name of computer destination" हम आज इस Format  को अपने ईमेल Address के रूप मे देख सकते है। तो अब आप जाने गए होंगे की Email Ka Avishkar Kisne Kiya था।

E-mail के मुख्य कार्य क्या है?

E-mail एक Electronic Mail प्रक्रिया है। जिसका प्रयोग आज दुनिया मे बहुत अधिक किया जाता है और किसी संदेश को भेजने व प्राप्त करने के लिए इंटरनेट पर मेल का प्रयोग होता है। तो चलिए जानते है E-mail के कुछ मुख्य कार्य क्या है?

  • E-mail के जरिये एक उपयोगकर्ता किसी अन्य E-mail Address पर संदेश भेज सकता है।
  • E-mail की सहायता से यूजर फोटो,वीडियो इत्यादि डाटा को भी भेज सकता है।
  • ई-मेल की सहायता से यूजर किसी संदेश को प्राप्त भी कर सकता है।
  • ई-मेल में यूजर किसी संदेश को अपडेट कर सकता है।
  • ई-मेल मे संदेश को भेजने के लिए इसे किसी निस्चित समय के लिए प्रोग्राम भी किया जा सकता है।
  • जो संदेश सफलतापूर्वक नहीं भेजे जाते वह संदेश ई-मेल के ड्राफ्ट मे स्टोर जाते है। जिस बाद मे दुबारा भेजा जा सकता है।
  • किसी अपरिचित मेल को यह ई-मेल सिस्टम अपने आप Spam Folder मे डाल देते है। क्योकि इस प्रकार के संदेश मे मेल सिस्टम को वायरस व स्पैम जैसे चीज़ो का संदेह होता है।

ईमेल की अवश्यकता क्या है?

आज इंटरनेट की दुनिया में ईमेल ID की बहुत ज्यादा जरूरत है। क्योकि बिना ईमेल अकाउंट के आप बहुत से कार्य नहीं कर सकते है। ईमेल के प्रयोग से आज कई सोशल अकाउंट बनाये जाते है। किसी स्टूडेंट को एडमिशन या ऑनलाइन फॉर्म भरने में ईमेल सहायक होता है। ईमेल से आप ऑनलाइन साइट पर Shopping, Surffing, Streaming इत्यादि कर सकते है।

प्रत्येक ईमेल अपने उपयोगकर्ता को एक अलग प्रकार की पहचान प्रदान करता है। जिसकी सहायता से यूजर इंटरनेट का अच्छे से प्रयोग कर पाता है। इसलिए इंटरनेट पर अपनी अलग पहचान व इंटरनेट चलाने के लिए ईमेल का होना बहुत आवश्यक होता है। 

अब तक आप E-mail Address Kya Hai और इसे जुडी दी गयी जानकारिया जान गए होंगे तो चलिए आगे इसके बारे में और जानकारिया प्राप्त करते है।

कंप्यूटर से सम्बंधित अन्य लेख जरूर पढ़े -


E-mail के फायदे

  • ईमेल या इलेक्ट्रिकल मेल एक निशुल्क सर्विस होती है।
  • ईमेल को प्रयोग करना बहुत सरल व आसान होता है।
  • यह बहुत काम समय मे संदेश को एक यूजर से दूसरे तक पंहुचा देता है।
  • इस माध्यम से भेजा गया संदेश सुरक्षित रहता है।

E-mail के नुकशान 

  • ईमेल एड्रेस पर कई बार स्पैम मैसेज भी आते है। जो डाटा के लिए हानिकारक होते है।
  • कई बार मेल पर अपिचरित व महत्वीन संदेश भी आते है। जो यूजर के इनबॉक्स को भर देते है।

आज आपने क्या सीखा 

इस लेख को पढ़ने के बाद आपने जाना होगा कि Email Kya HaiEmail Address Kya Hai, ईमेल का प्रयोग क्या है?, Email Ka Pura Naam Kya Hai, ईमेल के मुख्य कार्य, Email ka Avishkaar Kisne Kiya, ईमेल की मुख्य विशेषता, E-mail ka matlab kya hota hai और E-mail kya hai जैसी अनेक जानकारी आपने इस लेख मे जरूर जानी होंगी।

हम आशा करते है कि यह लेख E-mail Address Kya Hota Hai आपको अच्छा लगा होगा अगर यह लेख आपको अच्छा लगा है। तो इससे अपने दोस्तों के साथ जरूर शेयर करे। ऐसे ही कंप्यूटर व टेक्नोलॉजी से सम्बंदित जरुरी जानकारी प्राप्त करने के लिया हमारी वेबसाइट के अन्य आर्टिकल भी जरूर पढ़े।

Post a Comment

0 Comments