SMPS क्या है?(What is SMPS in Hindi?) SMPS के प्रकार।

क्या आप जानते है SMPS क्या होता है? और SMPS के कितने प्रकार के होते है? अगर नहीं जानते तो आज इस आर्टिकल मे  जानेंगे की ये SMPS क्या है। और इसके बारे मे सभी जानकारी का पता इस आर्टिकल मे मिल जायेगा।

आज दुनिया का हर व्यक्ति कंप्यूटर का प्रयोग करता है। और वे जानते है कि सभी कंप्यूटर बहुत सारे Part और Devices से मिलकर बना होता है। पर क्या आप जानते है इन सभी Devices को कार्य करने के लिए Electricity कौन  प्रदान करता है। इस आर्टिकल मे हम यह भी जानेंगे!

कंप्यूटर और Electronic device होता है जिसको कार्य करने के लिए Electricity की जरूरत पड़ती है। तो ये विद्युत् इसे कौन प्रदान करता है। इसके बारे मे हम आगे जानेंगे। Computer की तरह हि हमारे घरो मे बहुत से Electronic device लगे होते है। जैसे Fan, cooler, oven, washing machine ये सभी Electronic devices होते है।

घरो के Electronic device मे प्रयोग होने वाली Electricity 220v  से लेकर 240v तक होती है। जिसे कंप्यूटर से Direct connect नहीं किया जा सकता इस सभी Part बुरी तरह खराब हो सकते है इसलिए हम SMPS का प्रयोग कंप्यूटर मे करते है।

तो चलिए शुरू करते है और जानते है की SMPS क्या है? और SMPS के प्रकार कितने है।


SMPS kya hai, What is SMPS in hindi?, types of smps, smps

SMPS क्या है?( What is SMPS in hindi?)

SMPS का पूरा नाम Switched mode power supply होता है। जिसे हम Computer power supply के नाम से भी जानते है। यह एक Hardware electronic device होता है। 

SMPS की सहायता से कंप्यूटर के सभी Devices को Electricity प्रदान कृ जाती है। ये Devices दिखने मे Square case या Box जैसे होता है।  और इसे हम अपने Computer cabinet मे देख सकते है।

ये Device मे Main power supply से Alternative current(AC) लेता है। जिसे बाद मे Direct current(DC) मे परिवर्तित कर देता है। क्योकि कंप्यूटर के Part main supply के High volatge से खराब हो जाता है। इसलिए यह 240v AC को 12V  DC मे Convert करके Motherboard को दे देता है। जिसे बाद मे Motherboard द्वारा सभी Device को दिया जाता है।

SMPS मे Current को Convert करने के लिए एक Electric circuit होता है जो Capacitor और diode की सहायता से कार्य करता है। SMPS  Power supply करते समय AC to DC and ON to OFF  Switch करता रहता है। इस लिए इसे Switched mode power supply भी कहा जाता है।

SMPS के प्रकार 

अभी तक आपने जान लिया है कि SMPS क्या होता है। तो चलिए अब SMPS के प्रकार के बारे मे जान लेते है। SMPS के प्रकार के बारे मे बहुत सारे लोगो को Doubt रहता है अब हम आपके इन Doubt को हल करते है।

वर्तमान मे SMPS के कुल चार प्रकार होते है।

  1. DC To DC Converter
  2. Forward converter SMPS
  3. Flyback converter SMPS
  4. Self oscillating flyback converter SMPS

DC To DC Converter

इस प्रकार के SMPS मे High voltage DC को Directly DC power source से लिया जाता है और इस Voltage को High Frequency switch के जरिये 15khz से लेकर 5khz मे परिवर्तित कर दिया जाता है।

इस Change frequency को step down transformer के primary cell से गुजारा जाता है और Rectifier से गुजरते हुए Output DC को Load तक भेज  दिया जाता है।

ये SMPS high DC volt प्राप्त  उसे low DC volt मे Convert कर देता है।

Forward Converter SMPS 

ये एक SMPS Converter होता है। इस Converter को कार्य करने के लिए Transistor और diode की सहायता लेनी पड़ती है। इस SMPS में Choke के जरिये power जाती है। जो Transistor से होते हुए जाती है अगर Transistor बंद हो जाता है। तब तक यह कार्य Diode करता है इस तरह से यह लोड तक Power supply करता है। ON Period मे ये Energy Choke द्वारा Load तक Supply होती है।

Flyback Converter SMPS 

इस प्रकार के SMPS का प्रयोग low power applications मे होता है। इस Converter मे Switch के ON होने पर Inductor का Magnetic Field energy को store करके रखता है और जब यह Circuit open होता है। तब इसमें Energy खाली हो जाती है।

Self oscillating flyback converter SMPS 

इस प्रकार के SMPS का प्रयोग Flyback converter से भी छोटे Electrical application मे होता है जैसे Remote control toys मे इस कार्य कुछ Flyback जैसा हि है।

इस Converter मे एक छोटा Transformer लगा होता है जो एक Gernal diode से जुड़ा  होता है। इसमें से Current गुज़ार कर Low DC voltage load को दिया जाता है।

SMPS के Connecter क्या है? उनके बारे मे Detail 

SMPS कंप्यूटर को power देने का कार्य करता है और इस कार्य को पूरा करने के लिए SMPS मे बहुत सारे Connecter लगे होते है। जो Motherboard और Device से जुड़कर कंप्यूटर मे Power supply करते है।

तो चलिए जान लेते है SMPS के सभी Connecter के बारे मे और उनका कार्य व प्रयोग क्या क्या है?

20+4 Pin A+X  Connecter 

ये Power supply का मुख्य Connecter होता है। यह 20Pin और 24pin मे उप्लब्ध  होता है। इस pin connecter को Motherboard पर connect किया जाता है। जिसे यह Motherboard पर लगे Component RAM, PCI card, low and graphic और अन्य device को power देता है।

कंप्यूटर के पुराने Motherboard मे 20 pin connecter होते थे इसलिए ये 20 pin मे भी आता है और आज के सभी Motherboard 24 pin connecter को support करते है। इस लिए यह 20+4 pin के साथ भी मिलता है।

CPU 4+4 Pin connecter 

इस Connecter का प्रयोग Motherboard मे लगे CPU को power देने के लिए किया जाता है। जिसमे 12v की power होती है कुछ Motherboard मे 4 pin connecter होते है। और high power processor को power देने के लिए 8 pin connecter का प्रयोग होता है। ये pin connecter detachable होते है। जिन्हे 4+4 pin मे बांटा जा सकता है।

SATA power connecter 

इस प्रकार के connecter का प्रयोग मुख्य रूप से SATA Device को power देने मे किया जाता है। जैसे Hard disk, DVD Drives इत्यादि।

Floppy 4 pin connecter 

इस Connecter का प्रयोग Floppy drives power देने मे किया जाता है। आज के Motherboard और SMPS इन connecter को support नहीं करते क्योकि अब कंप्यूटर मे Floppy से अच्छे Storage device का प्रयोग किया जाता है।

PCI-e 6 pin/ PCI-e 8 pin connecter 

PCI-e 6 pin connecter or 8 pin connecter ये दोनों 12v power प्रदान करता है इन connecter की सहायता से High range graphic card को extra power दी जाती है। जिसे वह Card अच्छे से कार्य कर पाते है।

SMPS के मुख्य भाग व उनके कार्य 

सभी Electronic device बहुत से भाग व port से मिलकर कार्य करते है उसी प्रकार SMPS भी अनेक Port से मिलकर कार्य करता है। तो चलिए जान लेते है SMPS मुख्य भाग व उनके कार्य-

Rectifier 

ये SMPS मे आ रहे AC voltage को DC Voltage मे परिवर्तित करता है।

Transformer 

Transformer Main power से आ रहे high volatge को low voltage मे convert  करता है।

Voltage regulator 

इसे Output regulator भी कहा जाता है। इसकी सहायता से Output voltage के power, Watt and Reference voltage को नियंत्रित किया जाता है।

Heat sink 

ये एक Almunium से बना Structure होता है। जो Transistor के heat को absorb कर लेता है और उसे ज्यादा गर्म नहीं होने देता है।

Capacitor 

ये Rectifier द्वारा DC Volt को store करके Filter करता है। जिसे DC Voltage smoth हो जाता है।

Transistor 

ये एक Semi conductor होता है जिसका कार्य Circuit मे Electric current को switch करना होता है।

Fuse 

SMPS और कंप्यूटर या Load को High voltage risk से बचाने के लिए इसका प्रयोग किया जाता है।

Choke coil 

ये एक inductor होता है जो Circuit मे High frequency AC Volt को Block करता है और Circuit मे current को smooth करता है।

SMPS की विशेषताये 

  1. SMPS कंप्यूटर के सभी भागो के विद्युत आपूर्ति मे कुशल होता है।
  2. SMPS को ज्यादा Power efficient बनाने मे Capacitor का प्रयोग किया जाता है।
  3. ये Device alternative current को Direct current मे convert कर देता है।
  4. ये Device Electricity मे उपस्थित noise को कम करता है।
  5. SMPS कार्य करते समय High heat को easily handle कर लेता है।

SMPS के फायदे 

  1. SMPS कार्य करते समय noise नहीं करता।
  2. ये कार्य करते समय अधिक Heat नहीं निकलता है।
  3. SMPS कंप्यूटर के लिए High and good power efficient होता है।
  4. इसमें power loss बहुत कम होता है।
  5. ये Size मे बहुत छोटा होता है।
  6. यह AC Volatge को DC Voltage मे बदल देता है।

SMPS के नुकशान 

  1. SMPS के गिर जाने पर या उसमे धूल मिटटी चले जाने पर वह खराब हो जाता है।
  2. Computer SMPS केवल Step down transformer की तरह कार्य करता है।
  3. SMPS मे लगे किसी भी Component के न चलने पर यह कार्य नहीं करता है।
  4. SMPS कार्य प्रक्रिया बहुत जटिल होती है।
  5. SMPS Electronic system मे Harmonic distortion का कारण होता है।

आज आपने क्या सीखा 

इस आर्टिकल मे आपने यह जाना कि SMPS क्या है? और SMPS के प्रकार कितने होते है। और ऐसी हि SMPS से जुडी अनेको जानकारी आपने इस आर्टिकल मे जानी होगी।

हम आशा करते है कि इस आर्टिकल को पढ़ कर आपको पता चल गया होगा कि SMPS क्या होता है? और SMPS के फायदे व नुकशान क्या क्या होते है।

अगर आपको यह आर्टिकल अच्छा लगा हो तो इसे अपने परिवार व दोस्तों के साथ जरूर शेयर करे।

Post a Comment

0 Comments